Home Main Slider उप्र में है बहुत प्रतिभा सिर्फ सरकारी सपोर्ट की जरूरतः असीम सिन्‍हा

उप्र में है बहुत प्रतिभा सिर्फ सरकारी सपोर्ट की जरूरतः असीम सिन्‍हा

6 second read
0
1
33
फिल्‍म एडीटर असीम सिन्‍हा, शान-ए-अवध इंटरनेशनल फिल्‍म फेस्टिवल, श्‍याम बेनेगल

फिल्‍म एडीटर असीम सिन्‍हा ने माना व्‍यवसायिक हो चुका है भारतीय सिनेमा

लखनऊ। उप्र की राजधानी लखनऊ में चार दिन तक चले पांचवें शान-ए-अवध इंटरनेशनल फिल्‍म फेस्टिवल के आज अंतिम दिन फिल्‍म जगत की कई जानी-मानी हस्तियों ने शिरकत की। आज फेस्टिवल में मशहूर फिल्‍म एडीटर असीम सिन्‍हा भी पधारे।

फिल्‍म एडीटर असीम सिन्‍हा, शान-ए-अवध इंटरनेशनल फिल्‍म फेस्टिवल, श्‍याम बेनेगल

यह भी पढ़ें- विषय अच्‍छा लेकिन खास असर नहीं छोड़ पाई फिल्‍म ‘शादी में ज़रूर आना’

लाइव नाउ इंडिया के ब्‍यूरो चीफ दिवाकर मिश्रा के साथ एक एक्‍सक्‍लूसिव बातचीत में असीम सिन्‍हा ने कहा कि फिल्‍में हमारे समाज को संदेश देने का काम करती हैं। श्‍याम बेनेगल द्वारा अस्‍सी के दशक में शुरू किया गया समानांतर सिनेमा आज भी अपना काम कर रहा है। श्‍याम बेनेगल ने अंकुर, मंथन, भूमिका, निशांत जैसी फिल्‍में बनाकर लोगों को एक मैसेज देने का काम किया।

फिल्‍मों में व्‍यवसायीकरण की बात को स्‍वीकार करते हुए असीम सिन्‍हा ने कहा कि यह जरूर है कि फिल्‍मों को व्‍यवसायीकरण कुछ ज्‍यादा ही हो चुका है लेकिन आज भी ऐसी फिल्‍में बन रही हैं जो समाज को जागृत करने व संदेश देने का काम करती हैं।

उप्र में फिल्‍म निर्माण के भविष्‍य को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में असीम सिन्‍हा ने कहा कि उप्र में बहुत प्रतिभा है लेकिन सरकारी सपोर्ट के बगैर कुछ भी बड़ा हो पाना संभव नहीं हैं।

उन्‍होंने कहा कि सरकार को ऐसे प्रोड्यूसर डायरेक्‍टर को आर्थिक रूप से सपोर्ट करना चाहिए जिन्‍हें जरूरत है सिर्फ बड़ा नाम देखकर आर्थिक सहयोग करने से बात नहीं बनेगी।

असीम सिन्‍हा ने कहा कि उप्र के लोग ही मुंबई जाकर काफी अच्‍छा काम करते हैं अगर उन्‍हें सरकारी सुविधाएं व सपोर्ट मिले तो वे यहीं काम करेंगे, जिससे काफी लोगों को रोजगार भी मिलेगा।

फिल्‍म संपादन को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में असीम सिन्‍हा ने कहा कि बहुत से ऐसे निर्माता-निर्देशक हैं जो अपने हिसाब से फिल्‍म की एडीटिंग करवाना चाहते हैं लेकिन बहुत निर्माता-निर्देशक बिल्‍कुल हस्‍तक्षेप नहीं करते।

असीम सिन्‍हा हासिल, जुबैदा, वेलकम टू सज्‍जनपुर, सावन, मोहल्‍ला अस्‍सी सहित साठ से ज्‍यादा फिल्‍मों का संपादन कर चुके हैं।

ऐसी खबरों के लिए पढ़ते रहिए- Live Now India

Load More Related Articles
Load More By Diwaker Misra
Load More In Main Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

एफएटीएफ की ग्रे लिस्‍ट में शामिल हो रहा है पाकिस्‍तान, होगी ये दिक्‍कतें

इस्‍लामाबाद। आतंकवादियों को फंडिंग और मनीलांड्रिंग के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं करने को लेक…