Home Main Slider अयोध्या विवाद पर आज से फिर सुनवाई शुरू, जानिए आठ महत्‍वपूर्ण बातें

अयोध्या विवाद पर आज से फिर सुनवाई शुरू, जानिए आठ महत्‍वपूर्ण बातें

20 second read
0
0
406
अयोध्या विवाद, सुप्रीम कोर्ट में अयोध्‍या विवाद, प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा  

देश की सबसे बड़ी अदालत में अयोध्या विवाद पर आज से फिर सुनवाई शुरू हो रही है। इस पर 8 दिसंबर को भी सुनवाई हुई थी, लेकिन दस्तावेजों का अनुवाद नहीं हो पाया था, इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने तारीख दो महीने और बढ़ा दी थी।

दस्तावेजों के अनुवाद के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिया था दो महीने का वक्‍त

यह संभावित सुनवाई महत्वपूर्ण मानी जा रही है, क्योंकि प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली विशेष पीठ ने सुन्नी वक्फ बोर्ड तथा अन्य की इस दलील को खारिज किया था कि याचिकाओं पर अगले आम चुनावों के बाद सुनवाई हो।

यह भी पढ़ें-

आइए आठ प्वाइंट्स में जानें इसकी महत्वपूर्ण बातें- 

  1. कोर्ट में सुनवाई आज दोपहर 2 बजे से होगी। तीन जजों की बेंच इसकी सुनवाई करेंगे। इसमें चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अब्दुल नाजिर और जस्टिस अशोक भूषण शामिल होंगे।
  2. पिछली सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने अगली सुनवाई की तारीख 8 फरवरी तय की थी। उस वक्त उन्होंने कहा था कि उस दिन कोई भी डॉक्युमेंट्स के नाम पर सुनवाई टालने की मांग नहीं करेगा। सभी पक्ष अपने डॉक्युमेंट्स तैयार करें। दूसरे पक्षों के साथ बैठकर कॉमन मेमोरेंडम बनाएं। कोर्ट ने 11 अगस्त को 7 लैंग्वेज के डॉक्युमेंट्स का ट्रांसलेशन करवाने को कहा था।
  3. तब कुल 19,590 पेज में से सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के हिस्से के 3,260 पेज जमा नहीं हुए। उस वक्त सुनवाई टालने की मांग करते हुए बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि यह केस सिर्फ भूमि विवाद नहीं, राजनीतिक मुद्दा भी है।
  4. पिछली सुनवाई के दौरान सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट से इस केस की सुनवाई लोकसभा चुनाव तक टालने की मांग की थी। उन्होंने कहा था “कृपया होने वाले असर को ध्यान में रखकर इस मामले की सुनवाई कीजिए। कृपया इसकी सुनवाई जुलाई 2019 में की जाए, हम यकीन दिलाते हैं कि हम किसी भी तरह से इसे और आगे नहीं बढ़ने देंगे। केवल न्याय ही नहीं होना चाहिए, बल्कि ऐसा दिखना भी चाहिए।”
  5. मुस्लिमों के एक गुट ने उत्तर प्रदेश के शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के बैनर तले कोर्ट में एक मसौदा पेश किया था। इस मसौदे के मुताबिक, विवादित जगह पर राम मंदिर बनाया जाए और मस्जिद लखनऊ में बनाई जाए। इस मस्जिद का नाम राजा या शासक के नाम पर रखने के बजाए मस्जिद-ए-अमन रखा जाए।
  6. मामले में 7 साल से पेंडिंग 20 पिटीशन्स पिछले साल 11 अगस्त को पहली बार लिस्ट हुई थीं। पहले ही दिन क्युमेंट्स के अनुवाद पर मामला फंस गया था। संस्कृत, पाली, फारसी, उर्दू और अरबी समेत 7 भाषाओं में 9 हजार पन्नों का अंग्रेजी में ट्रांसलेशन करने के लिए कोर्ट ने 12 हफ्ते का वक्त दिया था। इसके अलावा 90 हजार पेज में गवाहियां दर्ज हैं। यूपी सरकार ने ही 15 हजार पन्नों के दस्तावेज जमा कराए हैं।
  7. हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुन्नी वक्फ बोर्ड 14 दिसंबर 2010 को सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। फिर एक के बाद एक 20 पिटीशन्स दाखिल हो गईं। सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई 2011 को हाईकोर्ट के फैसले पर स्टे लगा दिया, लेकिन सुनवाई शुरू नहीं हुई। इस दौरान 7 चीफ जस्टिस बदले। सातवें चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने इस साल 11 अगस्त को पहली बार पिटीशन्स लिस्ट की।
  8. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित 2.77 एकड़ जमीन 3 बराबर हिस्सों में बांटने का ऑर्डर दिया था। अदालत ने रामलला की मूर्ति वाली जगह रामलला विराजमान को दी। सीता रसोई और राम चबूतरा निर्मोही अखाड़े को और बाकी हिस्सा मस्जिद निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को दिया था।

यह भी पढ़ें-

कुष्ठ रोग पीड़ितों के लिए समाज में आ रही है जागरूकताः राम नाईक

अम्बेडकर प्रतिमा खंडित, माहौल बिगड़ने का अंदेशा

फेसबुक पर Fake Account का जमवाड़ा, भारत सबसे आगे 

डीडीए बैठक: कनवर्जन चार्ज में होगी भारी कमी, तीन दिन बाद फिर बैठक

Live Now India पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi सबसे पहले Live Now India पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Live Now India App

Load More Related Articles
Load More By Diwaker Misra
Load More In Main Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

एफएटीएफ की ग्रे लिस्‍ट में शामिल हो रहा है पाकिस्‍तान, होगी ये दिक्‍कतें

इस्‍लामाबाद। आतंकवादियों को फंडिंग और मनीलांड्रिंग के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं करने को लेक…