Home Main Slider पीएम की ओमान यात्राः शिवमंदिर में पूजा-अर्चना, आठ समझौतों पर हस्‍ताक्षर

पीएम की ओमान यात्राः शिवमंदिर में पूजा-अर्चना, आठ समझौतों पर हस्‍ताक्षर

50 second read
0
0
330
पीएम की ओमान यात्रा, शिवमंदिर में पूजा-अर्चना, आठ समझौतों पर हस्ता क्षर, ओमान में मोदी, आबू धाबी में हिंदू मंदिर

मस्कट (ओमान)। पश्चिम एशिया के तीन देशों की अपनी यात्रा के आखिरी चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज ओमान में हैं। ओमान की राजधानी मस्कट में पीएम मोदी आज तीन सौ साल पुराने शिव मंदिर पहुंचे और पूजा अर्चना की। इसके अलावा भारत और ओमान के बीच आठ समझौतों पर हस्‍ताक्षर भी हुए।

खाड़ी क्षेत्र में स्थित सबसे लोकप्रिय मंदिर है ओमान का शिवमंदिर

खाड़ी क्षेत्र में स्थित सबसे लोकप्रिय मंदिर है शिव मंदिर

ओल्ड ओमान में स्थापित पूरे शिव मंदिर को फूलों से सजाया गया है। इस मंदिर की खासियत ये है कि ये ओमान का सबसे पुराना शिव मंदिर है। इसी मंदिर में अभिषेक करने के लिए पीएम मोदी पहुंचे थे। यह खाड़ी क्षेत्र में स्थित सबसे लोकप्रिय मंदिर है।

यह भी पढ़ें-

जहां हिन्दू समुदाय प्रार्थना करते हैं और खुद को भारत से जुड़ा महसूस करते हैं। इससे पहले पीएम मोदी ने इस दौरे में ही दुबई के ओपेरा हाउस से आबू धाबी में बनने वाले पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास किया।

भारत-ओमान के बीच हुए आठ समझौते

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओमान के सुल्तान कबूस से व्यापक स्तर पर चर्चा की और इस दौरान भारत और ओमान ने रक्षा, स्वास्थ्य और पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग सहित आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किये। तीन देशों की यात्रा के अंतिम चरण में, दुबई से यहां पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुल्तान कबूस बिन साद अल साद के साथ प्रतिनिधि स्तर की वार्ता की अगुवाई की।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर कहा, “हमारे द्विपक्षीय संबंधों में नयी ऊंचाई छूते हुये, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओमान के सुल्तान कबूस के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की। दोनों रणनीतिक साझेदारों के बीच व्यापार और निवेश, ऊर्जा, रक्षा और सुरक्षा, खाद्य सुरक्षा तथा क्षेत्रीय मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने के बारे में बातचीत हुयी।”

यह भी पढ़ें-

सुल्तान कबूस ने ओमान के विकास में भारतीयों की “कड़ी मेहनत और ईमानदारी” भरे योगदान की सराहना की। वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किये। इसमें दीवानी और वाणिज्यिक मामलों में कानूनी तथा न्यायिक सहयोग पर एक एमओयू भी शामिल है।

दोनों देशों ने विदेश सेवा संस्थान, विदेश मामलों के मंत्रालय, भारत और ओमान राजनयिक संस्थान के बीच सहयोग को लेकर एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किये। राष्ट्रीय रक्षा महाविद्यालय, ओमान की सल्तनत और रक्षा अध्ययन तथा विश्लेषण संस्थान के बीच शैक्षिक और विद्वत्तापूर्ण सहयोग के लिये एक एमओयू हुआ। दोनों देशों ने सैन्य सहयोग के समझौते पर भी हस्ताक्षर किये।

यह भी पढ़ें-

इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओमान की राजधानी में कबूस स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में भारतीयों को संबोधित करते हुए कहा कि दोनों देशों के राजनीतिक माहौल में उतार-चढ़ाव के बावजूद भारत और ओमान के संबंध हमेशा मजबूत रहे हैं। उन्होंने कहा कि दोनों के संबंधों को मजबूत करने में ओमान में रह रहे भारतीयों ने अहम भूमिका निभाई है। नब्बे लाख से अधिक भारतीय खाड़ी क्षेत्र में काम करते हैं और रहते हैं। ओमान में, भारतीय सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है।

उल्लेखनीय है कि यात्रा के पहले चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामल्ला की यात्रा की थी। इस प्रकार वह फलस्तीन की आधिकारिक यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बने। मोदी ने ओमान आने से पहले संयुक्त अरब अमीरात की भी यात्रा की।

उन्होंने अपनी यात्रा से पहले ओमान को भारत का एक निकट समुद्री पड़ोसी बताया था, जिसके साथ भारत के अच्छे संबंध हैं। उन्होंने कहा था, मैं ओमान के प्रमुख उद्योगपतियों से भी मुलाकात करूंगा और भारत के साथ मजबूत आर्थिक संबंधों के संबंध में बातचीत करूंगा।

यह भी पढ़ें-

वायुसेना के अफसर ने सेक्‍स चैट की खातिर लीक की खुफिया जानकारी!

श्रीनगर में सीपीआरएफ कैंप के पास दिखे आतंकी, मुठभेड़ जारी

जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में बर्फबारी, महाराष्‍ट्र, मप्र में गिरे ओले

  Live Now India पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi सबसे पहले Live Now India पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Live Now India App
Load More Related Articles
Load More By Diwaker Misra
Load More In Main Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

एफएटीएफ की ग्रे लिस्‍ट में शामिल हो रहा है पाकिस्‍तान, होगी ये दिक्‍कतें

इस्‍लामाबाद। आतंकवादियों को फंडिंग और मनीलांड्रिंग के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं करने को लेक…