Home Main Slider अग्नि-1 बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण, मारक क्षमता 700 किलोमीटर से अधिक

अग्नि-1 बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण, मारक क्षमता 700 किलोमीटर से अधिक

21 second read
0
0
573
अग्नि-1 बैलिस्टिक मिसाइल, मारक क्षमता 700 किलोमीटर से अधिक, ओडिशा तट के पास बालासोर, ‘डॉ अब्दुल कलाम द्वीप’

बालासोर (ओडिशा)। भारत ने परमाणु मिसाइल ले जाने में सक्षम अग्नि-1 बैलिस्टिक मिसाइल का आज सफल परीक्षण किया, यह परीक्षण ओडिशा तट के पास बालासोर से किया गया। मिसाइल की मारक क्षमता 700 किलोमीटर से अधिक है।

ओडिशा तट के पास बालासोर से किया गया यह सफल परीक्षण

रक्षा सूत्रों ने बताया कि सतह से सतह पर मार करने में सक्षम और देश में विकसित इस मिसाइल का परीक्षण संचालनात्मक तैयारी को मजबूत करने के लिए सेना की ‘स्ट्रैटेजिक फोर्सेस कमांड’ (एसएफसी) की समय-समय पर की जाने वाली प्रशिक्षण गतिविधि के तहत किया गया।

यह भी पढ़ें-

सूत्रों ने बताया कि इस अत्याधुनिक मिसाइल का परीक्षण ‘डॉ अब्दुल कलाम द्वीप’ पर एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) के पैड 4 पर मोबाइल लॉन्चर से मंगलवार सुबह करीब साढ़े 8 बजे किया गया। ‘डॉ अब्दुल कलाम द्वीप’ को पहले व्हीलर आईलैंड के नाम से जाना जाता था। सूत्रों ने इस परीक्षण को ‘पूरी तरह सफल’ करार देते हुए कहा कि परीक्षण के दौरान मिशन के सभी उद्देश्य पूरे हुए।

सूत्रों ने कहा, ‘मिसाइल के प्रक्षेपण से लेकर उसके पूर्ण सटीकता के साथ अपने लक्षित क्षेत्र में पहुंचने तक परीक्षण के प्रक्षेप पथ पर अत्याधुनिक रेडारों, टेलीमेट्री अवलोकन स्टेशनों, इलेक्ट्रो-ऑप्टिक उपकरणों और नौसेना के पोतों से नजर रखी गई।’

700 किमी के लक्ष्य को सटीकता से भेदने में सक्षम

उन्होंने बताया कि यह एक ठोस रॉकेट प्रणोदक प्रणाली निर्देशित मिसाइल है और यह विशेष नेविगेशन प्रणाली से लैस है। यह प्रणाली सुनिश्चित करती है कि मिसाइल अत्यधिक सटीकता के साथ अपने लक्ष्य पर पहुंचे। सूत्रों ने बताया कि पहले ही सशस्त्र बलों में शामिल की जा चुकी इस मिसाइल ने मारक दूरी, सटीकता और घातकता के मामले में खुद को साबित किया है।

यह भी पढ़ें-

12 टन भारी और 15 मीटर लंबी अग्नि-एक मिसाइल एक हजार किलोग्राम तक का पेलोड ले जा सकता है। यह 700 किलोमीटर तक के लक्ष्य को भेदने में सक्षम है। यह परमाणु मिसाइल ले जाने में भी सक्षम है।

अग्नि-एक को एडवांस्ड सिस्टम्स लैबोरेटरी (एएसएल) ने रक्षा अनुसंधान विकास प्रयोगशाला (डीआरडीएल) और अनुसंधान केंद्र इमारत (आरसीआई) के सहयोग से विकसित किया है। इस मिसाइल को भारत डायनामिक्स लिमिटेड, हैदराबाद ने समेकित किया है। एएसएल मिसाइल विकसित करने वाली डीआरडीओ की प्रमुख प्रयोगशाला है।

यह भी पढ़ें-

भारत ने किया स्वदेश-निर्मित सुपरसोनिक इंटरसेप्टर मिसाइल का परीक्षण

रेप जैसी घटनाएं रोकने के लिए सीनू ने बनाया रेप प्रूफ अंडरगारमेंट

आ रहा है मकर संक्रांति का त्‍योहार, इन पांच बातों का रखें ध्‍यान

जस्टिस ढींगरा की एसआईटी करेगी सिख दंगों के 186 केसों की फिर से जांच

Live Now India पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi सबसे पहले Live Now India पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Live Now India App

Load More Related Articles
Load More By Diwaker Misra
Load More In Main Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

एफएटीएफ की ग्रे लिस्‍ट में शामिल हो रहा है पाकिस्‍तान, होगी ये दिक्‍कतें

इस्‍लामाबाद। आतंकवादियों को फंडिंग और मनीलांड्रिंग के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं करने को लेक…